इकोनामी एड फ़ाइनेंस

म्‍युचुअल फंडों में निवेश के अवसर तलाश रहे इन्‍वेस्‍टर्स के लिए यह सुनहरा दौर, FD से अच्‍छा मिलेगा रिटर्न

: नई दिल्‍ली, धीरेंद्र कुमार। पिछले वर्ष लगभग इसी समय जब मैं यह कॉलम लिख रहा था तो मेरे दिमाग में भारत में सिस्टमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (एसआइपी) निवेश की शानदार विकास दर बसी हुई थी। उस समय मैंने लिखा था कि अगर यह रूझान जारी रहा तो अगले 15 वर्षो में न सिर्फ इक्विटी असेट बढ़कर 320 लाख करोड़ रुपये हो जाएगी, बल्कि यह भारत में कुल म्‍युचुअल फंड निवेश का लगभग 75 प्रतिशत होगा।
अब मुझे लगता है कि मेरा यह आकलन गलत था। पिछले कुछ माह की घटनाओं से पता चलता है कि एसआइपी का चलन इससे ज्यादा तेजी से बढ़ रहा है। इसका कारण यह है कि एसआइपी भारतीय निवेशकों के मनोविज्ञान को बदल रही है। मैं पहले से ही इस बात की उम्मीद कर रहा था। निवेशकों पर एसआइपी का यह सबसे अहम प्रभाव है। इससे पहले इक्विटी मार्केट एक ही स्तर के आसपास घूम रहा था फिर इसमें तेजी का दौर आया।
[

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button