राष्ट्रीय समाचार

पूर्व वायुसेना प्रमुख को आज भी अफसोस, बोले- अभिनंदन के पास राफेल होता तो स्थिति कुछ और होती

भारतीय वायुसेना के पूर्व प्रमुख बीएस धनोआ को इस बात का अफसोस है  कि 27 फरवरी को पाक वायुसेना के खिलाफ कुछ खास कदम नहीं उठाए जा सके और इसकी वजह यही थी कि हम तकनीकी रूप से कम सक्षम थे। अगर भारत के पास राफेल जैसे एडवांस्ड एयरक्राफ्ट होता तो नतीजा और बेहतर हो सकते थे।

उन्होंने इसके लिए उन लोगों को जिम्मेदार बताया, जिनकी वजह से भारतीय रक्षा क्षमताओं को बेहतर बनाने में देरी हुई है। वह रविवार को चंडीगढ़ में आयोजित मिलिट्री लिटरेचर फेस्टिवल समारोह में अंडरस्टैंडिग द मैसेज ऑफ बालाकोट विषय पर आयोजित चर्चा में बोल रहे थे।

उन्होंने कहा कि बहुत कम समय के लिए इस मामले से यही सबसे बड़ा सबक मिला है कि तकनीकी मायने रखती है। उन्होंने सवाल करते कहा कि क्या होता अगर विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान मिग21 बाइसन की जगह राफेल को उड़ा रहे होते। हमने तकनीकी की समस्या को बहुत कम हल किया है।

उन लोगों की जिम्मेदारी का क्या जिन्हें इस तकनीक को लेकर आना था और मीडियम मल्टी रोल लड़ाकू विमान को लेकर करीब दस साल से महज बातचीत कर रहे हैं। धनोआ 30 सितंबर को वायुसेना से सेवानिवृत्त हो चुके हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button