बॉलीवुड

तापसी ने सिस्टम पर निकाला गुस्सा, बोलीं, ‘मैं रीढ़ बेचकर गुजारा नहीं कर सकती’

नए साल में भले ‘छपाक’ और ‘पंगा’ जैसी नायिका प्रधान फिल्मों को बॉक्स ऑफिस पर अपेक्षित सफलता न मिली हो पर तापसी पन्नू को पूरा भरोसा है कि उनकी फिल्म ‘थप्पड़’ जरूर सफल होगी। तापसी के इस भरोसे की वजह है उनकी ‘पिंक’, ‘मुल्क’ और ‘बदला’ जैसी फिल्मों को मिली सफलता। अमर उजाला के लिए तापसी से ये खास मुलाकात की अमित कुमार सिंह ने।

पहले साल में एक या दो फिल्में औरतों को केन्द्र में रख कर बनाई जाती थी लेकिन आज महीनों में दो-तीन फिल्में ऐसी देखने को मिलती है। यह बहुत ही गजब का बदलाव है। जनता ऑनलाइन कंटेंट को देखकर जागरूक हो गई है। अब वह दस साल पुराने विषय की फिल्में सिरे से नकार देते हैं। इसी वजह से इस नए दौर में महिला आधारित फिल्में आने लगी हैं। मुझे लगता है कि हमने इस विषय पर पहले काम ही नहीं किया था। हमारे यहां एक अभिनेता की जो फीस होती है वह हमारी फिल्मों का पूरा बजट होता है।

मैं सिर्फ एक ही बात ध्यान रखती हूं कि क्या मैं इस फिल्म को अपनी मेहनत की कमाई के 500 रुपये लगाकर देख सकती हूं या नहीं। अपनी जिंदगी के वापस ना लौटने वाले तीन घंटे मैं इस फिल्म पर लगाऊंगी या नहीं। पैसा तो मैं फिर भी कमा लूंगी लेकिन वह समय वापस नहीं आ सकता है। लोगों का समय भी उतना ही महत्वपूर्ण है जितना मेरा समय। इसलिए मैं हमेशा यही चाहती हूं कि लोगों का समय और पैसा बर्बाद ना हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button