latest

Solar Eclipse: हर राशि पर रहेगा ग्रहण का प्रभाव, ये बरतें सावधानी और पाएं लाभ

[: गुरुवार सुबह सूर्यग्रहण से पहले बुधवार शाम मंदिरों के पट आठ बजे तक बंद हो जाएंगे। सूतकों के चलते घरों में भी लोग मंदिरों के पट बंद कर देंगेेे। हालाकि ग्रहण एक खगोलिय घटना है लेकिन सूतक और ग्रहण काल के दौरान कुछ विशेष सावधानियां बरतनेे की सलाह धार्मिक रूप से भी दी जाती है। ज्‍योतिषाचार्य डॉ शोनू मेहरोत्रा के अनुसार यह पूर्ण सूर्यग्रहण नहीं होगा क्योंकि चंद्रमा की छाया सूर्य का पूरा भाग नहीं ढक पायेगी। इस ग्रहण में सूर्य का बाहरी हिस्सा प्रकाशित रहेगा। इस ग्रहण की कुल अवधि 2 घंटे 40 मिनट की रहेगी।
26 दिसंबर, दिन गुरुवार को साल का आखिरी सूर्य ग्रहण लगने जा रहा है। पौष माह के कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि को लगने जा रहा ये वलयाकार सूर्य ग्रहण होगा। इस ग्रहण में सूर्य आग की अगूंठी की तरह दिखाई देगा। ग्रहण से पहले सूतक काल शुरू हो जाता है। जिसका अपना धार्मिक महत्व है। कहा जाता है कि इन दौरान किसी भी तरह के शुभ कार्य, पूजा पाठ इत्यादि काम नहीं करने चाहिए। यहां तक की कई मंदिरों के कपाट भी सूतक काल के दौरान बंद कर दिये जाते हैं।
[

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button