सीतारमन ने दिया राहुल बजाज को जवाब।

0
8

उद्योगपति राहुल बजाज के बयान पर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने प्रतिक्रिया जाहिर की है. निर्मला सीतारमण ने ट्वीट कर कहा है कि राहुल बजाज ने जिन मुद्दों को उठाया, उसका जवाब गृह मंत्री अमित शाह ने दिया. सवाल हों, आलोचनाएं हों सबको सुना जाता है, उनका जवाब दिया जाता है, उसे रेखांकित किया जाता है.

उद्योगपति राहुल बजाज को जवाब देते हुए निर्मला सीतारमण ने लिखा कि अपनी धारणा फैलाने की जगह जवाब पाने के और भी बेहतर तरीके हैं. ऐसी बातों से राष्ट्रीय हित पर चोट लग सकती है.

बता दें कि मुंबई में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान उद्योगपित राहुल बजाज ने गृह मंत्री अमित शाह से कहा था कि इस वक्त लोगों के बीच खौफ का माहौल है, जो सरकार की आलोचना करने से दूर भागते हैं, क्योंकि उन्हें विश्वास नहीं है कि उनकी आलोचना को सरकार में किस तरह लिया जाएगा. वहीं, कार्यक्रम में भोपाल से बीजेपी सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर की ओर से नाथूराम गोडसे को देशभक्त कहने का मामला भी उठा. राहुल बजाज ने कहा, ‘साध्वी प्रज्ञा को पहले तो टिकट दिया गया, फिर जब वो चुनाव जीतकर आईं तो उन्हें डिफेंस कमेटी में लिया गया…ये माहौल जरूर हमारे मन में हैं, लेकिन इसके बारे में कोई बोलेगा नहीं.’

गृह मंत्री अमित शाह ने उसी मंच से जवाब दिया

वहीं, राहुल बजाज की बातों का गृह मंत्री अमित शाह ने उसी मंच से जवाब दिया. अमित शाह ने कहा कि इस बात को खारिज किया कि देश में डर का मौहाल है. उन्होंने कहा, ‘किसी को किसी के बारे में डरने की जरूरत नहीं है, मीडिया में नरेंद्र मोदी सरकार की लगातार आलोचना हो रही है, लेकिन यदि आप कह रहे हैं कि इस तरह का मौहाल पैदा हो गया है तो इसे ठीक करने के लिए हमें काम करने की जरूरत है.’ अमित शाह ने कहा कि हमारी सरकार पारदर्शी तरीके से काम कर रही है और यदि इसकी आलोचना होती है और इस आलोचना में दम है तो हम इसे सुधारने की कोशिश करते हैं.

वहीं, गृह मंत्री ने प्रज्ञा सिंह ठाकुर पर भी अपनी राय दी. उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार और बीजेपी प्रज्ञा सिंह ठाकुर के बयान की कड़ी आलोचना करती है. अमित शाह ने कहा कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह पहले ही प्रज्ञा ठाकुर के बयान पर सफाई दे चुके हैं, पार्टी ने भी उनके खिलाफ कार्रवाई की है. अमित शाह ने कहा, ‘न तो सरकार और न ही पार्टी ऐसे किसी टिप्पणी का समर्थन करती है, हमलोग पूरी सख्ती से इस बयान की आलोचना करते हैं.’