राष्ट्रीय समाचार

प्रधानमंत्री ने कहा, देश को बचाने के लिए जरूरी, पूरे देश में एक साथ 21 दिन का पूर्ण लॉकडाउन!

देश में कोरोना वायरस का संक्रमण फैलता जा रहा है. पिछले दो दिनों में इसके मामले तेजी से बढ़े हैं. आम लोगों में इसका संक्रमण रोका जा सके इसके लिए देश के सैकड़ों जिलों में लॉकडाउन किया गया है. कई जगह कर्फ्यू जैसे हालात हैं तो कई जगह इसे लागू भी किया गया है. सरकारों की अपील के बावजूद लोग घरों में रुकना नहीं चाहते और लॉकडाउन को तोड़ते हुए घरों से बाहर निकल रहे हैं. लोगों को कैसे एक-दूसरे से दूर रखा जाए, इसे लेकर प्रधानमंत्री मोदी ने मंगलवार रात राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में बताया और अगले 14 तारीख तक संपूर्ण देश में बंद का ऐलान कर दिया.

अपने संबोधन में उन्होंने कहा, हिंदुस्तान को बचाने के लिए, हिंदुस्तान के हर नागरिक को बचाने के लिए आज (मंगलवार) रात 12 बजे से, घरों से बाहर निकलने पर, पूरी तरह पाबंदी लगाई जा रही है. उन्होंने कहा, मुझे विश्वास है हर भारतीय संकट की इस घड़ी में सरकार के, स्थानीय प्रशासन के निर्देशों का पालन करेगा. 21 दिन का लॉकडाउन, लंबा समय है, लेकिन आपके जीवन की रक्षा के लिए, आपके परिवार की रक्षा के लिए, उतना ही महत्वपूर्ण है.

बता दें, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को ही पूरे देश में लॉकडाउन का ऐलान किया है. मंगलवार आधी रात से शुरू हुआ यह लॉकडाउन 21 दिनों यानी 14 अप्रैल तक चलेगा. कोरोना का खतरा बहुत बड़ा है, लिहाजा पीएम मोदी ने साफ शब्दों में इससे होने वाली तबाही और बर्बादी की तरफ लोगों का ध्यान खींचा और चेतावनी दी कि अगर इस बंदी को नहीं माना गया तो बर्बादी तय है.

लॉकडाउन के दौरान सरकारी और निजी दफ्तर बंद रहेंगे. रेल, हवाई और रोडवेज की सेवा नहीं मिलेगी. मॉल, हॉल, जिम, स्पा, स्पोर्ट्स क्लब बंद रहेंगे. सभी रेस्टोरेंट और दुकानें बंद रहेंगी. होटल, मोटल, धार्मिक स्थल बंद रहेंगे. सभी स्कूल-कॉलेज पर ताला रहेगा. सभी फैक्ट्रियां, वर्कशॉप, गोदाम और साप्ताहिक बाजार बंद रहेंगे.

कोरोना मरीजों को लेकर देश की जो स्थिति है उसे अच्छा नहीं माना जा सकता क्योंकि इसमें लगातार इजाफा देखा जा रहा है. अब तक प्राप्त आंकड़ों के मुताबिक, आंध्र प्रदेश में 7, बिहार में 4, छत्तीसगढ़ में 1, चंडीगढ़ में 6, दिल्ली में 29, गुजरात में 35, हरियाणा में 30, हिमाचल प्रदेश में 2, जम्मू-कश्मीर में 7, कर्नाटक में 41, केरल में 105, लद्दाख में 13, मध्य प्रदेश में 9, महाराष्ट्र में 107, मणिपुर में 1, ओडिशा में 2, पुदुचेरी में 1, पंजाब में 29, राजस्थान में 32, तमिलनाडु में 18, तेलंगाना में 39, उत्तर प्रदेश में 35, उत्तराखंड में 5 और पश्चिम बंगाल में 9 केस सामने आए हैं. कोरोना का कहर बढ़ता जा रहा है. बुधवार सुबह तमिलनाडु में एक शख्स ने जान गंवा दी. मौत का आंकड़ा बढ़कर 11 हो गया है. मरीजों की संख्या की बात करें तो बुधवार सुबह तक 560 पॉजिटिव केस मिले है. इसमें 46 ठीक हो गए. यानि अभी 504 एक्टिव केस हैं.

प्रधानमंत्री ने राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में कहा, भारत आज उस स्टेज पर है जहां हमारे आज के एक्शन तय करेंगे कि इस बड़ी आपदा के प्रभाव को हम कितना कम कर सकते हैं. ये समय हमारे संकल्प को बार-बार मजबूत करने का है. उन डॉक्टर्स, उन नर्सेस, पैरा-मेडिकल स्टाफ, पैथोलॉजिस्ट के बारे में सोचिए, जो इस महामारी से एक-एक जीवन को बचाने के लिए, दिन रात अस्पताल में काम कर रहे हैं. कोरोना वैश्विक महामारी से बनी स्थितियों के बीच, केंद्र और देशभर की राज्य सरकारें तेजी से काम कर रही हैं. रोजमर्रा की जिंदगी में लोगों को असुविधा न हो, इसके लिए निरंतर कोशिश कर रही हैं. अब कोरोना के मरीजों के इलाज के लिए, देश के हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर को और मजबूत बनाने के लिए केंद्र सरकार ने आज 15 हजार करोड़ रुपए का प्रावधान किया है. इससे कोरोना से जुड़ी टेस्टिंग फैसिलिटीज, पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट्स, आइसोलेशन बेड्स, आईसीयू बेड्स, वेंटिलेटर्स और अन्य जरूरी साधनों की संख्या तेजी से बढ़ाई जाएगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button