latest

Nirbhaya case: निर्भया की मां ने देश की जनता के लिए जारी किया मोबाइल नंबर, कहा मिस कॉल दें

पिछले आठ साल से बेटी को इंसाफ दिलाने के लिए कानूनी लड़ाई लड़ रहीं निर्भया की मां ने देश की जनता से अपील की है कि वे न्याय की इस मुहिम में उनके साथ आएं। इसके लिए उन्होंने देश के नाम संदेश दिया है, जिसमें उन्होंने इंसाफ की लड़ाई में साथ आने की अपील की है।

7834998998 नंबर दें मिस कॉलनिर्भया की मां ने जनता के नाम संदेश में लोगों से चारों दोषियों के लिए फांसी का समर्थन करने की अपील के साथ एक नंबर 7834998998 भी जारी किया है। देश की जनता के नाम संदेश में निर्भया की मां ने कहा है- ‘अगर आप मुझे इस मुद्दे पर समर्थन करते हैं तो इस मैसेज को आगे बढ़ाएं। इसी के साथ इस नंबर 7834998998’ पर मिस कॉल भी दे सकते हैं।

बता दें कि चारों दोषियों को निचली अदालत के बाद दिल्ली हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट फांसी की सजा सुना चुका है, लेकिन तकरीबन तीन साल बाद भी फांसी को अंजाम नहीं दिया जा सका है। वहीं, निर्भया के माता-पिता पिछले छह महीने से लगातार निचली अदालत, दिल्ली हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के चक्कर लगा रहे हैं। अब परेशान हो कर निर्भया की मां ने देश की जनता से समर्थन मांगा है। अपनी भावनात्मक अपील में निर्भया की मां ने इंसाफ की लड़ाई में लोगों से समर्थन मांगा है।

यहां पढ़िए मैसेज की अहम बातें

कल, मैं सर्वोच्च न्यायालय के सामने निर्भया के लिए न्याय सुनिश्चित करने के लिए निवेदन करूंगा ताकि महिलाओं के खिलाफ अपराध को हतोत्साहित किया जाए।
अगर निर्भया न्याय पाने में नाकाम रही तो कोई और पीड़ित न्याय पाने में सक्षम नहीं होगा
हमें निर्भया के लिए न्याय सुनिश्चित करने के लिए एकजुट होना चाहिए
मेरी रातों की नींद हराम है, लेकिन न्याय के लिए अपने संघर्ष को जारी रखूंगी।
मानव अधिकार कार्यकर्ता केवल अपना व्यवसाय चला रहे हैं।
जो लोग मुझे इन दोषियों को क्षमा करना चाहते हैं, उन्हें सोचना चाहिए कि अगर उनके परिवार में भी ऐसा ही होता है तो क्या वे बर्दाश्त करेंगे।
हमें अपने अधिकारों के लिए लड़ना होगा, न मांगें
जो लोग मुझे दोषियों को क्षमा करने के लिए कहते हैं, मैं उनसे पूछना चाहती हूं कि क्या यह आपके बच्चे के साथ हुआ था, तो क्या आप दोषियों को माफ कर देंगे?
यदि देश में महिलाओं के अपने अधिकार हैं, तो हमारे अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए व्यवस्था बदलनी चाहिए।
यहां पर बता दें कि 16 दिसंबर, 2012 को दिल्ली के वसंत बिहार इलाके में चलती बस में निर्भया के साथ दरिंदगी हुई थी। रात घर जाने के दौरान बस में राम सिंह, एक नाबालिग, विनय कुमार शर्मा, पवन कुमार गुप्ता, मुकेश सिंह और अक्षय कुमार ने निर्भया के साथ चलती बस में सामूहिक दुष्कर्म किया था। इस दौरान निर्भया को शारीरिक के साथ मानसिक प्रताड़ना इस कदर दी गई कि उसने अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया।

इसके बाद फास्ट ट्रैक कोर्ट बनाकर मुकदमा चलाया गया, जिसमें निचली अदालत के बाद दिल्ली हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट विनय, मुकेश, पवन और अक्षय को फांसी की सजा सुना चुका है, जबकि राम सिंह ने तिहाड़ जेल में आत्महत्या कर ली थी और नाबालिग अपनी सजा पूरी कर चुका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button