न्यू दिल्ली

जामिया की वीसी ने बताया, पुलिस जबरन कैंपस में घुसी

उन्होंने एक वीडियो बयान में कहा,”मेरे छात्रों साथ हुई बर्बरता की तस्वीरें देखकर मैं बहुत दुखी हूं. पुलिस का कैंपस में बिना इजाज़त आना और लाइब्रेरी में घुसकर बेगुनाह बच्चों को मारना अस्वीकार्य है. मैं बच्चों से कहना चाहता हूं कि आप इस मुश्किल घड़ी में अकेले नहीं हैं. मैं आपके साथ हूं. पूरी यूनिवर्सिटी आपके साथ खड़ी है.”

प्रोफ़ेसर नजमा ने कहा, ”मैं इस मामले को जहां तक ले जा सकती हूं, ले जाऊंगी. आपलोग कभी भी अकेले नहीं हैं और घबराइए मत. हम सभी एक साथ हैं और ग़लत ख़बर पर विश्वास मत कीजए.”

उन्होंने समाचार एजेंसी एएनआई से भी बात की और बताया कि रविवार को यूनिवर्सिटी में हालात कैसे नियंत्रण से बाहर हुए.

उन्होंने कहा, ”रविवार था इसलिए छुट्टी का दिन था. मुझे पता चला कि जामिया के आसपास जो कॉलोनी हैं वहां से विरोध-प्रदर्शन के लिए बुलावा आया था. स्टूडेंट्स सड़क से मार्च करते हुए जुलेना गए थे. जुलेना में ही पुलिस से उनकी झड़प हुई. उस झड़प के बाद पुलिस ने उन्हें दौड़ाया तो वो दौड़ते हुए गेट पर गार्ड को धक्का देते हुए जामिया में घुस गए. उनमें से कुछ पुलिस वाले लाइब्रेरी में आ गए. लाइब्रेरी में हमारे कुछ स्टू़डेंट्स पहले से ही थे.”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button