पॉलिटिक्स

हिंसा के लिए PAK को जिम्मेदार ठहराना, ये बात हजम नहीं होती: शिवसेना

नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ देश में हो रहे हिंसक प्रदर्शन पर शिवसेना ने मोदी सरकार पर निशाना साधा. शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में लिखा, ‘विधेयक के विरोध में आवाज उठाने वाले जामिया मिलिया विश्वविद्यालय के छात्रों पर पुलिस ने बंदूकें तान दीं. गोलियां चलार्इं. जब अपने ही देश के छात्रों पर बंदूक तानने की नौबत आ जाए तो ये समझना चाहिए कि मामला हाथ से निकल चुका है. दिल्ली में पुलिस की कार्रवाई अमानवीय और गैरकानूनी है. जलियांवाला बाग हत्याकांड में अंग्रेजों ने इससे अलग कुछ नहीं किया था.’

शिवसेना ने कहा, ‘पीएम मोदी ने कहा कि हिंसा के पीछे पाकिस्तान का दिमाग और हाथ है. ऐसा कहना मोदी सरकार की दुर्बलता है. एक महाशक्तिमान देश में पाकिस्तान जैसा कमजोर देश अगर इस प्रकार के दंगे आदि कराने की क्षमता रखता है तो ये हिंदुस्थान के लिए शोभनीय नहीं है. एक तरफ ये कहना कि ‘सर्जिकल स्ट्राइक’ आदि करके हमने पाकिस्तान को खत्म कर दिया, घुटने टेकने को मजबूर कर दिया और उसी समय देश का जल उठना और इसका ठीकरा पाकिस्तान पर फोड़ना, ये बात हजम नहीं होती.’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button