राष्ट्रीय समाचार

आईसीयू में जूझ रही अर्थव्यवस्था, सरकार इलाज करने में पूरी तरह फेल: चिदंबरम

राज्यसभा में बजट पर बहस को शुरू करते हुए कांग्रेस नेता व पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने सोमवार को मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा, देश की अर्थव्यवस्था आईसीयू में है और सरकार इसका इलाज करने में फेल हुई है। उन्होंने कहा, आर्थिक मंदी से देशभर में हाहाकार मचा हुआ है, अर्थव्यवस्था ध्वस्त होने की कगार पर है लेकिन सरकार को न तो यह संकट सुनाई दे रहा और न ही दिखाई दे रहा।

चिदंबरम ने कहा, आर्थिक मोर्चे पर सरकार का रवैया बेहद लापरवाही वाला रहा है। बजट की ही बात करें तो ‘सबका विकास सबका साथ’ और ‘अच्छे दिन आएंगे’ का नारा लगाने वाली सरकार के बजट में नहीं बताया गया कि आखिर अच्छे दिन कब आएंगे।  हैरानी इस बात की है वित्तमंत्री के 160 मिनट के भाषण में आर्थिक सर्वे के बिंदुओं का कोई जिक्र नहीं है और चुनौतियों से निपटने का कोई रोडमैप नहीं पेश किया गया।

चिदंबरम ने सरकार पर अपनी कामियां छिपाने का आरोप लगाते हुए कहा कि जो डॉक्टर अर्थव्यवस्था को इस मुश्किल दौर से निकालने में सक्षम थे सरकार ने उनको बाहर कर दिया है। बीते चार सालों में पूर्व सीईए अरविंद सुब्रमण्यन, आरबीआई के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन, उर्जित पटेल, नीति आयोग के पूर्व उपाअध्यक्ष अरविंद पनगढिया को सरकार ने बाहर कर दिया है।

ये लोग अर्थव्यवस्था की नब्ज को समझते थे और इसे बचाने में सक्षम थे। उन्होंने कहा, मैं सरकार से पूछना चाहता हूं कि आखिर बीमार अर्थव्यवस्था के लिए उनके डॉक्टर कौन हैं?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button