पॉलिटिक्स

देवगौड़ा ने दो बार कांग्रेस में शामिल होने की मंशा जताई थी

बेंगलूरु. पूर्व केंद्रीय मंत्री व वरिष्ठ राजनेता एसएम कृष्णा ने ‘स्मृतिवाहिनीÓ नाम से अपनी आत्मकथा लिखी है। उनकी इस पुस्तक का विमोचन ४ जनवरी को होना है। बताया जा रहा है कि कृष्णा ने पुस्तक में कई राज खोले हैं।
इसमें एक जिक्र है कि कांग्रेस पार्टी से अपने राजनीतिक सफर का आरंभ करने वाले जनता दल-एस के प्रमुख व पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा ने एक नहीं दो बार कांग्रेस में दोबारा शामिल होने की मंशा जताई थी। कृष्णा और एचडी देवगौड़ा समकालीन राजनेता हैं।
कृष्णा के दावे के अनुसार देवगौड़ा ने आपातकाल के दौरान तथा चौधरी चरण सिंह के नेतृत्व वाली जनता पार्टी सरकार के पतन के पश्चात कांग्रेस में शामिल होने की मंशा व्यक्त की थी। किताब में दावा है कि वर्ष 1975 में आपातकाल के दौरान मीसा कानून के तहत बंदी बनाए जाने के बाद एचडी देवगौड़ा पेरोल पर रिहा हुए थे। रिहाई के पश्चात देवगौड़ा ने हासन जिले के तत्कालीन अपर जिलाधिकारी शिवराम के माध्यम से कृष्णा के साथ अकेले में बातचीत करने की मंशा जताई थी। इस मुलाकात के लिए देवगौड़ा एक ऑटो रिक्शा में कृष्णा के मकान पहुंचे थे। मुलाकात के दौरान देवगौड़ा ने पहली बार कांग्रेस में शामिल होने की इच्छा जताई थी। जबकि देवगौड़ा तत्कालीन मुख्यमंत्री देवराज अर्स के कट्टर आलोचकों में से एक थे। ऐसे विरोध के बीच देवगौड़ा काकांग्रेस में शामिल होना तार्किक नहीं था। मुलाकात के दौरान कृष्णा ने देवगौड़ा को जल्दबाजी में ऐसा कदम नहीं उठाने की सलाह दी थी। जिसे देवगौड़ा ने भी मान लिया।
उसके पश्चात जब 1980 में जनता पार्टी के नेताओं के बीच विरोधाभास के कारण केंद्र में चौधरी चरण सिंह की सरकार का पतन हुआ, तब जनता पार्टी के नेताओं के बर्ताव से नाराज देवगौड़ा ने फिर एक बार कांग्रेस में शामिल होने की मंशा व्यक्त की। इस दौरान जनता पार्टी के और एक वरिष्ठ नेता एसआर बोम्माई ने भी कांग्रेस में शामिल होने की मंशा व्यक्त की थी। देवगौड़ा तथा एसआर बोम्माई की इच्छा के अनुसार कृष्णा ने इन दोनों की कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रणव मुखर्जी के साथ मुलाकात भी करवाई थी। लेकिन आगे इन दोनों नेताओं के बीच कोई सहमति नहीं बनने वे कांग्रेस में शामिल नहीं हुए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button