latest

Delhi Election 2020: गठबंधन से बदली सियासत, दिल्ली में कांग्रेस ने पहली बार किया प्रयोग

[: गठबंधन की सियासत से दिल्ली की राजनीतिक पहचान भी बदल रही है, जहां हमेशा से सत्ता पर एक ही सियासी दल काबिज रहता आया है वहां अब सत्ता साझा करने की कोशिशें शुरू हो गई हैं। यही वजह है कि इस दफा पहली बार कांग्रेस ने भी राष्ट्रीय जनता दल (राजद) को साथ मिला लिया है। दूसरी तरफ, भाजपा ने परंपरागत सहयोगी शिरोमणि अकाली दल बादल को छोड़कर लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) और जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के रूप में नए साथी बना लिए हैं। इसमें दो राय नहीं कि इस बार के चुनाव परिणाम दिल्ली का सियासी चेहरा भी बदल सकते हैं।

तीनों दलों BJP-AAP और कांग्रेस के लिए अहम है यह चुनाव
मुगलकाल से सत्ता का केंद्र रही दिल्ली का चुनाव सिर्फ दिल्ली के लिए नहीं होता। यहां से पूरे देश को एक संदेश जाता है। इसलिए यहां के चुनाव पर पूरे देश की निगाहें होती हैं। इस बार यह चुनाव भी कुछ अलग ही रंग लिए हुए है। 2015 के विधानसभा चुनाव में आप ने अप्रत्याशित जीत दर्ज करते हुए 70 में से 67 सीटें हासिल कर ली। भाजपा ने तो तीन सीटें किसी तरह हासिल भी कर ली, लेकिन कांग्रेस का खाता तक नहीं खुल सका। इस बार भी तीनों दलों के लिए यह चुनाव खास अहमियत रखता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button