दुनिया

इराक स्थित भारतीय दूतावास में तैनात 30 CRPF कमांडो दे रहे कोरोनावायरस को ‘मात’

कोरोनावायरस, अब दुनिया के विभिन्न हिस्सों में फैलता जा रहा है। इराक भी इससे अछूता नहीं रहा। बगदाद में स्थित भारतीय दूतावास और उसके अधिकारियों की सुरक्षा की जिम्मेदारी सीआरपीएफ के 30 कमांडोज को सौंपी गई है।

इराक में भी कोरोनावायरस के नए मामले सामने आ रहे हैं। सीआरपीएफ के कमांडो सुरक्षित रहें, इसके लिए दूतावास के अधिकारी उनकी स्क्रीनिंग कर रहे हैं। अगर जरुरत पड़ती है, तो उनके सेंपल लेकर जांच कराई जाएगी। हालांकि अभी सारे कमांडोज पूरी तरह सुरक्षित हैं।
 इराक के स्वास्थ्य मंत्रालय ने रविवार को छह नए कोरोनावायरस के मामलों की सूचना दी है। वहां पर कोरोनावायरस के कुल मामलों की संख्या 19 हो गई है। छह नए केसों में से दो राजधानी बगदाद में हैं और अन्य चार देश के उत्तर-पूर्व के हिस्से सुलेमानिया में पाए गए हैं।

ये सभी लोग हाल ही में पड़ोसी देश ईरान से लौटे थे। चीन से बाहर अगर किसी देश में कोरोनोवायरस के चलते सबसे अधिक मौतें हुई हैं, तो वह ईरान है। इराकी स्वास्थ्य मंत्रालय ने हाल ही में एक बयान जारी कर लोगों से अपील की थी कि वे कोई भी सभा करने से बचें। भले ही वह विरोध प्रदर्शन, धार्मिक समारोह या कोई सामाजिक कार्यक्रम हो।

बुधवार को सार्वजनिक समारोहों पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। कुवैत और बहरीन के यात्रियों के प्रवेश पर रोक लगा दी गई है। साथ ही इराक के लोगों के लिए कुल नौ देशों में यात्रा पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।

बता दें कि इराक में जब कोरोनावायरस का पहला मामला सामने आया तो मालूम हुआ कि वह पीड़ित ईरानी छात्र था। उसे ईरान वापस भेज दिया गया है।

अन्य सभी 12 लोग जो कोरोनावायरस से पीड़ित हैं, वे अभी इराक में ही हैं। बताया जाता है कि ये सभी लोग ईरान गए हुए थे। ईरान में कोरोनावायरस से मरने वालों की संख्या 54 तक पहुंच गई है। वहीं रविवार तक संक्रमित लोगों की संख्या 978 तक जा चुकी है।

कोरोनावायरस के डर से तुर्की ने भी शनिवार को इराक, इटली और दक्षिण कोरिया के लिए यात्री उड़ानों पर रोक लगा दी थी।
 सीआरपीएफ के डीआईजी ‘इंटेल’ एम. दिनाकरण का कहना है कि हमें अपने जवानों की बहुत चिंता है। हम उनके स्वास्थ्य को लेकर इराक में भारतीय दूतावास के साथ लगातार संपर्क में हैं।

जवानों के स्वास्थ्य की नियमित जांच कराई जा रही है। कोरोनावायरस की जांच के लिए जो भी जरूरी कदम हैं, वे उठाए जा रहे हैं। वहां पर हमारे 30 कमांडो तैनात हैं। फिलहाल वे सभी ठीक हैं और पूरी तन्मयता से अपनी ड्यूटी दे रहे हैं। कमांडो को कुछ दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं, जिनका वे पालन कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button