बिहारराज्य

बक्सर की पुलिस अभी तक कोई सुराग नहीं तलाश पाई है युवती की मौत की

बक्सर/पटना। बक्सर में युवती को जलाकर मार डालने के मामले में पुलिस को अब तक कोई सुराग नहीं मिला है। मृतका की पहचान भी नहीं हो पाई है। पुलिस और फॉरेंसिक टीम ने बुधवार को भी घटनास्थल का मुआयना किया। एफएसएल की टीम ने मृतका का वेसरा भी प्रिजर्व कराया है। हत्या से पहले युवती को नशीला पदार्थ खिलाने की भी आशंका है। वेसरा की जांच से यह स्पष्ट हो जाएगा। डॉक्टरों ने स्वाब भी सुरक्षित रखा है। एफएसएल की टीम उसमें सिमेन जांचेगी। अगर सिमेन का नमूना मिला तो फिर डीएनए जांच में संदिग्ध का प्रोफाइल तैयार हो सकेगा। इस आधार पर पुलिस भविष्य में पकड़े गए संदिग्धों से उसका मिलान कर पाएगी।
 
बक्सर में पब्लिक के बीच जहां नवविवाहिता की गोली मारकर हत्या व शव को जलाने का मामला तूल पकड़ रहा है। वहीं, दूसरी ओर पुलिस के सामने यह समस्या मुंह खोले खड़ी है कि आखिर इसकी पहचान किस तरह से की जाए। ताकि पूरे मामले से पर्दा उठ सके। क्योंकि मामले को हाथ में लेने के 42 घंटे (मंगलवार सुबह 8 बजे से लेकर बुधवार रात 2 बजे तक) बाद भी पुलिस को कोई ठोस सबूत नहीं मिला है। 

अब इस मामले में सुराग देने वालों के लिए पुलिस मुख्यालय ने पुरस्कार की घोषणा की है। डीजीपी ने केस को सुलझाने में मदद करने वाले को 50 हजार रुपया इनाम देने की बात कही है। इसकी पुष्टि एसपी उपेन्द्रनाथ वर्मा ने की। उन्होंने बताया कि शव की पहचान के लिए पुलिस ने पिछले दो साल के मिसिंग रिपोर्ट खंगाल ली है। लेकिन केस को सुलझाने में कोई कामयाबी नहीं मिली है।

पुलिस के पास बनारस सहित पांच जगहों से फोन आया लेकिन शव की शिनाख्त नहीं हो पाई। वहीं दूसरी ओर बुधवार को शाहाबाद रेंज के डीआईजी राकेश राठी ने इटाढ़ी थाना क्षेत्र के कुकुढ़ा गांव के समीप घटना स्थल पर एफएसएल की टीम ने जांच की। वहां राख व मिट्टी से साक्ष्य जुटाने में टीम लगी रही। कुछ सामग्री टीम के हाथ जरूर लगी। परंतु उससे न तो मृतक की पहचान होने की संभावना है और न ही कोई सुराग हाथ लगा। 

एसपी उपेंद्र नाथ वर्मा ने बताया कि पहले अपने जिले के सभी थानों से पिछले दो साल में गायब युवतियों की लिस्ट निकलवाई गई। उनसभी की वर्तमान में क्या स्थिति है। उसकी रिपोर्ट ली। लेकिन, 18 से 24 आयु वर्ग के बीच कोई भी मीसिंग नहीं मिली है। वह कहीं न कहीं मौजूद हैं। यह मामला सामने आने के बाद बनारस से दंपत्ति शव देखने आये। लेकिन उन्होंने पहचान नहीं की। साथ ही दिनारा सहित अन्य जिलों ने पांच लोगों ने फोन किया। वे भी शिनाख्त नहीं कर सके।

दिन भर राख व मिट्टी में सबूत तलाशती रही एफएसएल की टीम
एफएसएल की टीम के सदस्य राख की ढेर से मृतक की पहचान के सबूत तलाश रहे थे। उन्होंने कई सामग्रियां इकट्ठी की। लेकिन, इन सब वस्तुओं के बीच राख की ढेर में एक पेन का अवशेष मिला। जिससे यह अंदाजा लगाया जा रहा है कि पेन मृतक या तो हत्यारों का होगा। पेन के अवशेष मिलना इस बात का खुलासा करता है कि मृतक या हत्यारे दाेनों में से कोई एक पढ़ाई करते थे। जिसके कारण पेन उनके साथ था।

बक्सर पुलिस ने सभी थानों में भेजी दैनिक भास्कर में छपी तस्वीर, पड़ोसी राज्य के थानों में भी संपर्क रखने का निर्देश
शव की पहचान के लिए पुलिस सूबे के सभी थानों में युवती का पैर की तस्वीर, सैंडिंल व अन्य सामानों की तस्वीर भेज रही है। जो फोटो दैनिक भास्कर के अंक में बुधवार को छपी थी। उसे ही भेजा गया है। वहीं इस पूरे मामले पर डीआईजी राकेश राठी का कहना है कि पहली प्राथमिकता शव की पहचान है। उसके साथ कुछ गलत हुआ है यह पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद कहा जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button