स्पोर्ट्स

आकाशदीप बोले- प्रो लीग में से होगी ओलंपिक की तैयारी

भारत के सबसे अनुभवी और भरोसेमंद स्ट्राइकर आकाशदीप सिंह कहते हैं कि नीदरलैंड सरीखी दुनिया की तीसरे नंबर की हॉकी टीम के खिलाफ एफआईएच प्रो लीग मैच से पहले यहां शिविर में सभी खिलाड़ियों ने स्ट्रक्चर पर काबिज रहकर खेलने पर सबसे ज्यादा जोर दिया है। उन्होंने नीदरलैंड के खिलाफ यहां शनिवार और रविवार के मैचों से पहले ‘अमर उजाला’ से बृहस्पतिवार को खास बातचीत में कहा, ‘हमने इस बात पर सबसे ज्यादा ध्यान दिया है कि जब गेंद पर हमारे कब्जे में है तो तब स्ट्रक्चर के मुताबिक कैसे खेलना है और जब गेंद न तो तब कैसे खेलना है।

खिलाड़ी स्ट्रक्चर के मुताबिक शिविर में खेले भी। फिलहाल हमारा ध्यान एफआईएच प्रो लीग के यहां दुनिया की तीसरे नंबर की टीम नीदरलैंड, दुनिया की नंबर एक टीम ऑस्ट्रेलिया और दुनिया की दूसरे नंबर की टीम बेल्जियम के खिलाफ ‘डबल हेडर’ यानी यहां दो-दो मैचों में बेहतरीन प्रदर्शन करने पर है।

प्रो लीग के इन शुरू के छह मैचों में बढ़िया प्रदर्शन करते हैं टोक्यो ओलंपिक के लिए बढ़िया प्रदर्शन का विश्वास जगेगा। हमें अब ओलंपिक और विश्व कप जैसे दुनिया के बड़े हॉकी टूर्नामेंट में दुनिया की बड़ी टीमों के खिलाफ दबाव वाले बड़े मैच जीतनना सीखना होगा। तभी हमारी भारतीय हॉकी दुनिया में अपना नाम कर पाएगी।

हमें ओलंपिक और विश्व कप जैसे बड़े टूर्नामेंट में क्वॉर्टर फाइनल, सेमीफाइनल और फाइनल जैसे बड़े मैचों में बड़ी टीमों से बढ़त लेने के साथ उसे आखिर तक कायम रख कर जीत में बदलना सीखना होगा। हम रियो ओलंपिक में भी बेल्जियम के खिलाफ क्वॉर्टर फाइनल में बढ़त लेने के बाद और यहां विश्व कप में नीदरलैंड के खिलाफ बढ़त लेने के बाद 1-2 से हार कर बाहर हो गए थे। संयोग से इन दोनों मैचों में मैंने ही शुरू में गोल किए और इसके बावूजद हमारी भारतीय टीम की इसमें हार बहुत सालती है।

इससे सबक यही है कि इसमें किसी एक खिलाड़ी की मेहनत काफी नहीं है बड़े मैच में जीत के लिए हमें बतौर टीम खेल कर जीत की मंजिल हासिल करने की बाबत सोचना होगा।’ उन्होंने कहा, ‘ हम जब यहां विश्व कप के क्वॉर्टर फाइनल में करीबी मैच में नीदरलैंड से हार गए थे उस हार ने भी हमें काफी कुछ सिखाया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button