latest

AGR की मार से सहमे बैंक RBI की शरण में, टेलीकॉम कंपनियों की मुश्किलें बढ़ने से बैंक भी डरे

[सुप्रीम कोर्ट से बकाया एजीआर पर कोई राहत नहीं मिलने से देश की टेलीकॉम कंपनियों की मुश्किल तो बढ़ गई है साथ ही इसकी वजह से वाणिज्यिक बैंक भी सहम गये हैं। बैंकों का डर है कि अगर भारी वित्तीय मुसीबत से जूझ रही कुछ दूरसंचार कंपनियों पर पड़ने वाला अतिरिक्त वित्तीय बोझ उनकी स्थिति और खराब करेगी। ऐसे में ये कंपनियां पहले से बैंकों से लिए गये कर्जे को चुकाने में देरी कर सकती हैं जिससे उनके फंसे कर्जे (एनपीए) की स्थिति और बिगड़ेगी। ऐसे में सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के अगले ही दिन बैंकों की तरफ से आरबीआइ को पूरे हालात की जानकारी दी गई है।

आरबीआइ ने बैंकों को यह आश्वासन दिया है कि वह मुद्दे को सरकार के उच्च स्तर पर ले जाएगा ताकि कोई रास्ता निकाला जा सके। बैंकिंग सूत्रों के मुताबिक देश के प्रमुख बैंकों की तरफ से भारतीय बैंक संघ (आईबीए) ने पूरे हालात पर आरबीआइ को अवगत करा दिया है। यह भी बताया गया है कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लागू करने की स्थिति में कुछ दूरसंचार कंपनियों के समक्ष दिवालिया होने के अलावा और कोई चारा नहीं रहेगा। यह बैंकों के एनपीए के स्तर को और बढ़ा देगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button