latestपॉलिटिक्स

66 साल में कैसे ‘महाराजा’ से फटेहाल हुआ हमारा एयर इंडिया

: एयर इंडिया पर करीब 58 हजार करोड़ रुपये से अधिक का कर्ज है। घाटे से बेहाल महाराजा अब फटेहाल हो गए हैं। 1953 में सरकार द्वारा खरीदी गई इस विमानन कंपनी को 66 साल हो गए हैं। हालांकि अब स्थिति ऐसी हो गई है, कि कंपनी में काम करने वाले कर्मचारियों को भी समय पर वेतन नहीं मिल रहा है। ऐसे में पायलटों सहित केबिन क्रू और इंजीनियरिंग स्टाफ ने भी नौकरी से इस्तीफा देने की धमकी दी है।
1932 में टाटा एयरलाइंस से हुई थी शुरुआत
एयर इंडिया को सबसे पहले जेआरडी टाटा ने 1932 में टाटा एयरलाइंस के नाम से लॉन्च किया था। 1946 में इसका नाम बदल कर के एयर इंडिया कर दिया गया और 1953 में सरकार ने इसको टाटा से खरीद लिया था। तब से लेकर के सन 2000 तक यह सरकारी एयरलाइन मुनाफे में चलती रही। 2001 में सबसे पहले कंपनी को 57 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था। तब विमानन मंत्रालय ने तत्कालीन प्रबंध निदेशक माइकल मास्केयरनहास को दोषी मानते हुए पद से हटा दिया था।
[

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button