दुनिया

जापान के तट पर जहाज में फंसे 3600 लोग, भारतीय यात्रियों ने सरकार से लगाई मदद की गुहार, कोरोना का कहर के वजे से।

कोरोना वायरस के कहर से चीन में अब तक 900 से अधिक लोगों की मौत हो गई है, वहीं भारत में भी इस बीमारी से बचाव के लिए युद्ध स्तर पर कोशिशें जारी हैं. चीन, जापान, सिंगापुर से आने वाले यात्रियों की जांच के लिए अलग से वार्ड बनाए गए हैं. इस बीच जापान के योकोहामा बंदरगाह पर रोक कर रखे गए लग्जरी क्रूज लाइनर के यात्री और चालक दल के सदस्य पांच फरवरी से परेशान हैं. इस जहाज में कई लोगों के कोरोना वायरस से पीड़ित होने की पुष्टि हुई है. आज ही डायमंड एक्सप्रेस नाम के इस क्रूज लाइनर के कैप्टेन ने ऐलान किया कि 66 और लोगों के कोरोना वायरस से पीड़ित होने की पुष्टि हुई है. एक दिन पहले तक जहाज के 71 लोग कोरोना वायरस से पीड़ित थे. नई जानकारी के बाद जहाज़ में अब 137 लोग कोरोना वायरस की चपेट में आ गए हैं.

PM मोदी ने शी चिनफिंग को चिट्ठी लिखकर कोरोना वायरस से निपटने में मदद की पेशकश की थी, अब चीन का आया जवाब…

WHO ने दी चेतावनी: कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर सतर्क रहे सभी देश

इस जहाज में 3600 लोग थे. ये जहाज बीस जनवरी को योकोहामा से चला था. 25 जनवरी को हॉन्गकॉन्ग में एक यात्री इस जहाज से उतरा. दो फरवरी को जहाज़ को जानकारी मिली की हॉन्ग कॉन्ग का ये यात्री कोरोना वायरस से पीड़ित था.

WHO ने दी चेतावनी
विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कोरोना वायरस का संक्रमण चीन से बाहर फैलने को लेकर अन्य देशों को आगाह किया और उनसे अपील की है कि वे इस घातक विषाणु के उनके देश में पहुंचने की आशंका के मद्देनजर उससे निपटने के लिए तैयार रहें. WHO प्रमुख तेदरोस अदहानोम गेब्रेयसस ने कहा कि उन लोगों के भी इस विषाणु से संक्रमित होने के ‘चिंताजनक मामले’ सामने आए हैं जो कभी चीन नहीं गए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button