ताजा

प्रदर्शन करने वाले 23 छात्र-छात्राएं निष्कासित, परीक्षा में भी शामिल होने की अनुमति नहीं

भोपाल. माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय ( makhanlal chaturvedi patrakarita vishwavidyalaya bhopal ) के दो अनुबंधित प्रोफेसरों के सोशल मीडिया पर सवर्ण विरोधी जातिगत भेदभाव वाली टिप्पणी करने के विरोध में प्रदर्शन और हंगामा करने वाले 23 छात्र-छात्राओं को विवि प्रशासन ने निष्कासित कर दिया है। यह विद्यार्थी विवि के अलग-अलग विभागों में अध्ययनरत हैं।
विवि की अनुशासन समिति Disciplinary committee की बैठक में इस मुद्दे पर विचार हुआ उसके बाद समिति की अनुशंसा पर रजिस्ट्रार ने इन विद्यार्थियों को विवि से आगामी आदेश तक निष्कासित करने का आदेश जारी कर दिया है। निष्कासन अवधि में इन विद्यार्थियों को कक्षाओं में उपस्थित होने और आगामी प्रायोगिक और सैद्धांतिक परीक्षा में शामिल होने की अनुमति नहीं होगी। प्रभारी रजिस्ट्रार दीपेन्द्र सिंह बघेल के अनुसार निष्कासित विद्यार्थियों को अपील का मौका दिया जाएगा।
इन छात्रों को किया निष्कासित
क्रं. नाम विभाग

  1. सौरभ कुमार, एमए पत्रकारिता विभाग
  2. प्रखरादित्य द्विवेदी, एमए पत्रकारिता विभाग
  3. राघवेन्द्र सिंह, पत्रकारिता विभाग
  4. आशुतोष भार्गव, एमबीए मीडिया प्रबंधन विभाग
  5. अभिलाष ठाकुर, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया विभाग
  6. अर्पित शर्मा, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया
  7. रवि भूषण सिंह, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया
  8. अंकित शर्मा, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया
  9. अर्पित दुबे, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया
  10. सुरेन्द्र चौधरी, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया
  11. विवेक उपाध्याय, पत्रकारिता विभाग
  12. शुभम द्विवेदी, पत्रकारिता विभाग
  13. अंकित कुमार चौबे, पत्रकारिता विभाग
  14. आकाश शुक्ला, पत्रकारिता विभाग
  15. रजनीश तिवारी, पत्रकारिता विभाग
  16. अनूप शर्मा, पत्रकारिता विभाग
  17. प्रतीक बाजपेयी, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया
  18. विपिन तिवारी, पत्रकारिता विभाग
  19. राहुल कुमार, मीडिया प्रबंधन विभाग
  20. रवि शर्मा, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया
  21. मोनिका दुबे, विज्ञापन एवं जनसंपर्क
  22. नीतिशा सिंह, मीडिया प्रबंधन
  23. विधि सिंह, पत्रकारिता विभाग
    यह बच्चों की आवाज़ दबाने व लोकतंत्र को कुचलने का प्रयास है, छात्रों को निष्कासित कर उनके भविष्य को तबाह करने के इस षड्यंत्र को हम कामयाब नहीं होने देंगे। मेरी मांग है कि माखनलाल चतुर्वेदी विश्वविद्यालय के छात्रों की सभी जायज़ मांगें मानी जाएं और उनका निष्कासन तुरंत वापस लिया जाए। – पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का ट्वीट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button