latest

भारत-अमेरिका के रिश्तों में फंसा कश्मीर का पेंच, अगले हफ्ते वेल्स आएंगी भारत यात्रा पर

: भारत व अमेरिका के द्विपक्षीय रिश्तों में वैसे तो हर तरह से सुधार हो रहा है लेकिन कश्मीर का पेंच इसमें फंसा हुआ है। ऐसे में अगले हफ्ते भारत के दौरे पर आने वाली अमेरिका की प्रमुख उप सहायक विदेश सचिव एलिस वेल्स के साथ भारतीय विदेश मंत्रालय की होने वाली बैठक में कश्मीर का मुद्दा निश्चित तौर पर उठने वाला है। खुद वेल्स ने यात्रा की शुरुआत से पहले ट्वीट कर अपनी मंशा साफ कर दी है।

कश्मीर में लगाये गये सारे प्रतिबंध को हटाया जाना चाहिए
: उन्होंने हाल ही में भारत सरकार की तरफ से कुछ विदेशी राजनयिकों को कश्मीर ले जाने का स्वागत तो किया है लेकिन साथ ही बताने से कोई संकोच नहीं किया है कि वहां सरकार की तरफ से लगाये गये सारे प्रतिबंध को भी हटाया जाना चाहिए। वेल्स अमेरिकी विदेश मंत्रालय में दक्षिण व केंद्रीय एशिया विभाग की प्रमुख हैं।

कश्मीर के हालात पर नजर

अगर अगस्त, 2019 के पहले हफ्ते में धारा 370 हटाने के भारत के फैसले के बाद अमेरिका की प्रतिक्रिया देखें तो वह लगभग भारत का समर्थन करने वाला ही रहा है, लेकिन इधर अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता की तरफ से कई बार कश्मीर के हालात पर नजर बनाये रखने की बात कही गई है।

कश्मीर में राजनेताओं को बंदी बनाये जाने और इंटरनेट पर प्रतिबंध को लेकर चिंतित हूं

भारत ने जो पिछले हफ्ते जिन विदेशी राजनयिकों को जम्मू-कश्मीर ले गया था उनमें अमेरिकी राजदूत सबसे अहम थे। उसके बाद ही वेल्स ने कश्मीर को लेकर ताजी टिप्पणी की है। उन्होंने लिखा है कि, हम अमेरिकी राजदूत व अन्य राजनयिकों के कश्मीर दौर पर करीबी नजर बनाये हुए हैं। उन्होंने इसे अहम कदम करार देते हुए आगे लिखा है कि, ‘हम कश्मीर में राजनेताओं व निवासियों के बंदी बनाये जाने और इंटरनेट पर लगे प्रतिबंध को लेकर चिंतित भी हैं। हमें उम्मीद है कि जल्द ही वहां सामान्य स्थिति बहाल होगी।’

वेल्स 13 जनवरी से दक्षिण एशियाई देशों के दौरे पर

भारत में वेल्स के इस बयान को इसलिए महत्व दिया जा रहा है कि वह सोमवार से ही दक्षिण एशियाई देशों की यात्रा पर आ रही हैं। वह श्रीलंका, भारत और फिर पाकिस्तान की यात्रा पर जाएंगी।

भारत की उत्सुकता वेल्स के दिल्ली में दिए गए बयानों से ज्यादा पाक में उनके बयान को लेकर होगी

कूटनीतिक सूत्रों के मुताबिक वेल्स की भारतीय विदेश मंत्रालय में होने वाली बातचीत में व्यापक द्विपक्षीय रिश्तों पर बात होगी, लेकिन निश्चित तौर पर कश्मीर का मसला भी उठेगा, लेकिन भारत की उत्सुकता नई दिल्ली में वेल्स के बयान से ज्यादा पाकिस्तान में उनके बयान को लेकर होगी। यह हाल के महीनों में किसी वरिष्ठ अमेरिकी अधिकारी की पहली पाकिस्तान यात्रा होगी।

पाक सरकार व सेना वेल्स के साथ होने वाली वार्ता में कश्मीर का मुद्दा प्रमुखता से उठाएगी

पाकिस्तान सरकार व सेना निश्चित तौर पर वेल्स के साथ होने वाली बातचीत में कश्मीर का मुद्दा सर्वप्रमुखता से उठाएगी। ईरान के साथ तनाव बढ़ने के बाद माना जा रहा है कि पाकिस्तान की अहमियत एक बार फिर अमेरिका के लिए बढ़ गई है। यह देखना होगा कि अमेरिका कश्मीर पर पाकिस्तान को खुश करने वाला कोई बात तो नहीं कहता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button