latest

पूरी तरह से डिजिटल होगी जनगणना, रिकॉर्ड समय में आएंगे आंकड़े; जाने क्या हुआ बदलाव

[भारत में पहली बार 16वीं जनगणना पूरी तरह डिजिटल होने जा रही है। डिजिटल होने की वजह से विभिन्न पैरामीटर पर जनगणना के आंकड़े एक से दो साल के भीतर जारी कर दिये जाएंगे। इसके पहले कागज पर जुटाए आंकड़ों की पूरी रिपोर्ट जारी करने में आठ से 10 साल तक लग जाते थे। 2011 में हुई जनगणना के कई मानकों पर आखिरी रिपोर्ट अब तक पूरी नहीं हो पाई है। रिपोर्ट वक्त से आने पर सरकार को जरूरतमंद वर्गो के लिए विभिन्न योजनाएं तैयार करने में मदद मिलेगी।

जनगणना से जुड़े एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि डिजिटल डाटा जुटाने के लिए जनगणना में लगे 30 लाख से अधिक कर्मचारी एनड्रायड पर आधारित स्मार्टफोन या टैब का प्रयोग करेंगे। इसके लिए विशेष एप विकसित किया गया है। कर्मचारियों को सभी व्यक्तियों के आंकड़े इसी एप के सहारे डिजिटल फार्म में भरना होगा। सारे आंकड़े भरे जाने के बाद उसे सेव करते ही ये आंकड़े केंद्रीय स्तर पर कार्यरत सेंसस 2021 मैनेजमेंट एंड मॉनीटरिंग सिस्टम में सुरक्षित हो जाएगा। वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि इस ऐप को इस तरह से तैयार किया गया है कि यह उन जगहों पर भी काम करेगा, जहां इंटरनेट का नेटवर्क नहीं होगा। ऐसी स्थिति में जनगणनाकर्मी इंटरनेट के नेटवर्क में आने के बाद आंकड़ों को सेव कर सकेंगे।
[

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button