latest

पाक पर एफएटीएफ का फैसला शुक्रवार को, निगरानी सूची में बने रहना तय, तुर्की के अलावा किसी ने नहीं दिया साथ

वैसे तो एफएटीएफ का फैसला शुक्रवार को आएगा, लेकिन मलेशिया और चीन जैसे भरोसेमंद सहयोगियों के पाला बदलने के बाद पाकिस्तान का निगरानी सूची (ग्रे लिस्ट) में बने रहना तय माना जा रहा है। वहीं आतंकी फंडिंग को लेकर पाकिस्तान को काली सूची (ब्लैक लिस्ट) में शामिल किये जाने की मांग करने वाला भारत उसके निगरानी सूची में बने रहने से भी संतुष्ट नजर आ रहा है। भारत का मानना है कि निगरानी सूची में बने रहने पर भी पाकिस्तान पर आतंकी फंडिंग रोकने और अपनी धरती पर सक्रिय आतंकी संगठनों पर कार्रवाई के लिए दबाव बना रहेगा।

दरअसल 2018 से ही आतंकी फंडिंग को लेकर एफएटीएफ की निगरानी सूची में शामिल पाकिस्तान इससे निकलने का भरसक कोशिश करता रहा। पाकिस्तानी अदालत ने आतंकी फंडिंग को लेकर आतंकी संगठन लश्करे तैयबा के प्रमुख और मुंबई हमले के मास्टरमाइंड को 11 साल की सजा भी सुना दी। इसके माध्यम से पाकिस्तान दुनिया को यह दिखाना चाहता है कि आतंकी फंडिंग के खिलाफ कार्रवाई को लेकर वह गंभीर है।
[

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button