राष्ट्रीय समाचार

नागरिकता कानून के खिलाफ दिल्ली से लेकर महाराष्ट्र और बंगाल तक विरोध प्रदर्शन

नागरिकता संशोधन कानून और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (एनआरसी) के खिलाफ मैदान में उतरी जमात-ए-इस्लामी को शिवसेना का साथ मिला है। आज मुंबई में आयोजित कार्यक्रम में शिवसेना नेता और सांसद संजय राउत भी शामिल होंगे। इस कार्यक्रम का आयोजन जमात-ए-इस्लामी हिंद मुंबई, मराठी पत्रकार संघ और एसोसिएशन ऑफ प्रोटेक्शन ऑफ सिविल राइट्स मिलकर कर रहे हैं।

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव ने कहा, ‘विपक्षी दल छोटे राजनीतिक लाभ के लिए नागरिकता संशोधन अधिनियम के रूप में हमारी सरकार द्वारा किए गए मानवीय कार्य के खिलाफ झूठ फैलाने की कोशिश कर रहे हैं। वे सांप्रदायिक भावनाओं और मुस्लिम समुदाय को भड़काने की कोशिश कर रहे हैं।’

सिलीगुड़ा में ममता ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा, ‘मैं राषअट्रीय नागरिक पंजी और नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ लड़ रही हूं। मेरे साथ जुड़े। सभी लोगों से अनुरोध करती हूं कि वह आगे आएं और हमारे लोकतंत्र को बचाएं। वह भारत के प्रधानमंत्री हैं लेकिन हमेशा पाकिस्तान के बारे में बात करते हैं। क्यों? हम भारतीय हैं और हम अपने राष्ट्रीय मुद्दों के बारे में निश्चित तौर पर चर्चा करेंगे।’

ममता ने रैली में कहा कि यह शर्म की बात है कि आजादी से 70 साल बाद भी लोगों को अपनी नागरिकता साबित करनी पड़ रही है। उन्होंने प्रधानमंत्री से पूछा, ‘भारत एक बड़ा देश है जिसकी संस्कृति एवं विरासत समृद्ध है। आप हर मामले में पाकिस्तान का जिक्र क्यों करते हैं?’

उन्होंने भाजपा पर राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) के क्रियान्वयन को लेकर जानबूझकर भ्रम पैदा करने का आरोप लगाते हुए कहा कि उसके नेता एक दूसरे के विरोधाभासी बयान दे रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘एक ओर प्रधानमंत्री कह रहे हैं कि एनआरसी लागू नहीं किया जाएगा, दूसरी ओर केंद्रीय गृह मंत्री एवं अन्य मंत्री दावा कर रहे हैं कि यह प्रक्रिया पूरे देश में लागू की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button