आम मुद्दे

जेएनयू की फीस वृद्धि: पुरानी तस्वीरें सोशल मीडिया पर झूठी कहानियों का इस्तेमाल करती थीं

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) के छात्रों ने पिछले सप्ताह अपनी हॉस्टल फीस में भारी बढ़ोतरी के बाद सड़कों पर उतर गए। वे संसद की ओर मार्च करने लगे, पुलिस से भिड़ गए और मुद्दा लोकसभा में उठा। इस बीच सोशल मीडिया के खेल में उनके समर्थक और विरोधी मिल गए। दोनों पक्षों ने सार्वजनिक मूड को प्रभावित करने के लिए पुरानी और असंबंधित तस्वीरों का इस्तेमाल किया।

ट्विटर पर कुछ यूजर्स ने बीच-बचाव करने वाली महिलाओं की पुलिस की दो तस्वीरें पोस्ट कीं, जिसमें दावा किया गया कि वे जेएनयू की छात्रा थीं कैप्शन का मजाकिया अंदाज (जेएनयू में पढ़ने वाली छोटी बच्चियों पर अत्याचार करना ठीक नहीं है) अगर वे अपनी पढ़ाई खत्म नहीं करते हैं तो शादी कर लेते हैं) जेएनयू छात्रों को करदाताओं पर बोझ के रूप में बदनाम करने के लिए एक लंबा अभियान गूँजता है।

टाइम्स फैक्ट चेक ने पाया कि तस्वीरों में से एक 2017 में हैदराबाद में श्रम आयोग के कार्यालय के बाहर एक विरोध प्रदर्शन के दौरान शूट किया गया था, जबकि दूसरा इस साल मई में दिल्ली में एक विरोध रैली में शूट किया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button