latest

चीन से आयात निर्भरता के कारण स्थिति हुई गंभीर, देश के कई महत्वपूर्ण उद्योगों के लिए पैदा हुई कच्चे माल की कमी

[ चीन भारत का एक बड़ा कारोबारी साझेदार देश ही नहीं है बल्कि फार्मास्यूटिकल्स, रसायन समेत कई उत्पादों के वैश्विक उत्पादन श्रृंखला में दोनो देश अहम हिस्सेदार हैं। दोनों देशों के बीच 90 अरब डॉलर का द्विपक्षीय कारोबार है लेकिन भारत के कई उद्योगों के लिए चीन सबसे बड़ा आपूर्तिकर्ता है। जिन 20 उत्पादों का भारत सबसे ज्यादा आयात करता है उनमें चीन की हिस्सेदारी 43 फीसद है। भारत अपनी जरुरत का 90 फीसद सोलर पैनल चीन से लेता है जबकि कुल बल्क ड्रग्स आयात का भी दो तिहाई से ज्यादा हिस्सा चीन से आता है।

देश के प्रमुख उद्योग चैंबर सीआईआई के महासचिव चंद्रजीत बनर्जी का कहना है कि ”कोरोना महामारी से देश के कई महत्वपूर्ण उद्योगों के लिए कच्चे माल की कमी पैदा कर दी है। यह आने वाले दिनों में छोटे कारोबारियों और रोजगार के अवसरों पर काफी विपरीत असर दिखा सकता है, अभी सरकार व उद्योग जगत के बीच एक संयुक्त समिति बनाने की जरुरत है ताकि बिना किसी देरी के हालात से निपटने के लिए कदम उठाये जा सके। हालात चिंतापूर्ण है लेकिन इसे संभाला जा सकता है।’
[

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button