latest

एक गूगल सर्च पर 11 वॉट CFL जितनी बिजली खर्च, रोजाना 3.5 अरब बार होता है गूगल सर्च

: इंटरनेट वर्तमान जीवनशैली का एक अभिन्न अंग है। आज के समय में स्मार्ट फोन और सोशल मीडिया आदि के बिना जीवन की कल्पना नहीं की जा सकती। हाल ही में जब नागरिकता संसोधन कानून के विरोध में देश भर में प्रदर्शन किए गए थे तब शांति व्यवस्था स्थापित करने के लिए देश के कुछ शहरों में इंटरनेट को बंद कर दिया गया था, उस दौरान वहां के नागरिकों को इस बात का अहसास भी हुआ था।

विज्ञान एवं अनुसंधान के क्षेत्र में सदैव इस बात को हम सुनते आ रहे हैं कि आविष्कार विकास और विनाश दोनों का कार्य करता है। जीवन में सुख-सुविधा के साधन यदि विनाश का कारण बन जाए तो क्या होगा? वर्तमान समय की सबसे बड़ी चिंता यही है जिसके प्रति अब तक हम गंभीर नहीं हैं। कई लोगों के लिए यह बात हैरान करने वाली होगी, किंतु इंटरनेट का उपयोग कार्बन उत्सर्जन का एक बड़ा कारण है। उपयोगकर्ता इस बात से अंजान हैं कि इंटरनेट पर बढ़ती अत्यधिक निर्भरता उनके विनाश का कारण भी साबित हो सकती है।
[

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button