latest

ईरान ने विमान पर मिसाइल अटैक के दावे को किया ख़ारिज

ईरान ने इससे इनकार किया है कि उसकी मिसाइल के कारण यूक्रेन का यात्री विमान दुर्घटनाग्रस्त हुआ था.
बुधवार को यूक्रेन का यात्री विमान तेहरान हवाई अड्डे से उड़ान भरते ही दुर्घटनाग्रस्त हो गया था. इसमें सवार सभी 176 यात्री और चालक दल के सदस्य मारे गए थे.
ईरान के नागरिक उड्डन प्रमुख ने दावा किया कि वे इसे लेकर पूरी तरह आश्वस्त हैं कि विमान मिसाइल के कारण नहीं दुर्घटनाग्रस्त हुआ है.
पश्चिमी देशों के कई नेताओं ने ये कहा है कि जो सबूत मिले हैं, उससे ये लगता है कि ज़मीन से हवा में मारे करने वाली मिसाइल विमान को जाकर लगी थी, शायद ग़लती से ऐसा हुआ.
एक नए वीडियो से ऐसा लगता है कि तेहरान के ऊपर उड़ रहे इस विमान से कुछ टकराया था.
अमरीकी मीडिया ने ऐसी आशंका जताई है कि अमरीका की संभावित जवाबी कार्रवाई के कारण शायद इस यात्री विमान को जंगी विमान समझ लिया गया.

दरअसल ईरान ने अपने टॉप कमांडर क़ासिम सुलेमानी की मौत का बदला लेने के लिए इराक़ स्थित अमरीकी सैन्य ठिकाने पर कई मिसाइलें दाग़ी थी.
अमरीकी मीडिया का कहना है कि इसके बाद ईरान को अमरीका की जवाबी कार्रवाई का अंदेशा था.
इस विमान दुर्घटना में ईरान के 82 लोग, कनाडा के 63, यूक्रेन के 11 लोग मारे गए थे. इनके अलावा मारे जाने वालों में स्वीडन, ब्रिटेन, अफ़ग़ानिस्तान और जर्मनी के नागरिक भी थे.
ईरान ने वादा किया है कि वो इस दुर्घटना की पूरी जाँच कराएगा लेकिन टीवी फ़ुटेज से पता चलता है कि बुलडोज़र की मदद से दुर्घटनास्थल पर पड़े मलबों को हटाया जा रहा है. इस कारण ये चिंता जताई जा रही है कि जाँच के महत्वपूर्ण सबूत वहाँ से हटाए जा रहे हैं.
विमान के ब्लैक बॉक्स को अभी खोला नहीं गया है.
ये भी पढ़ा: अमरीका और ईरान भिड़े तो सऊदी अरब का क्या होगा?

ईरान का क्या कहना है

शुक्रवार को एक प्रेस कॉन्फ़्रेंस में ईरान के नागरिक उड्डयन संगठन के प्रमुख अली अबेदज़ादेह ने अपनी बात दोहराते हुए कहा कि उनके विचार में दुर्घटना मिसाइल के कारण नहीं हुई.
उन्होंने बताया, “हम पूरे भरोसे से ये कह सकते हैं कि विमान से मिसाइल नहीं टकराई थी. दिख रहा था कि विमान एक से डेढ़ मिनट तक हवा में था और उसमें आग लगी हुई थी. लोकेशन से ये भी पता चलता है कि पायलट विमान को वापस हवाई अड्डे पर लाने की कोशिश कर रहा था.”
सरकारी प्रवक्ता अली राबेई ने अमरीका और अन्य देशों पर ये आरोप लगाया है कि वो झूठ बोलकर और मनोवैज्ञानिक युद्ध करके हादसे के बारे में अटकलें लगा रहे हैं.
एक ईरानी अधिकारी ने बीबीसी को बताया है कि उनके पास ये दिखाने के लिए दस्तावेज़ी सूबत हैं कि उड़ान भरने से पहले विमान में तकनीकी समस्या थी, उसे उड़ने की अनुमति नहीं मिली थी लेकिन यूक्रेन के अधिकारियों ने इन आपत्तियों को ठुकरा दिया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button