latest

अमेरिका-ईरान संघर्ष के भंवर जाल में उलझे इमरान, पाक की विदेश नीति पर फौज का साया

नई दिल्‍ली, जागरण स्‍पेशल । न्‍यूयॉर्क टाइम्‍स से… ईरान-अमेरिका विवाद जैसे-जैसे बढ़ रहा है पाकिस्‍तानी विदेश नीति की चुनौती भी बढ़ती जा रही है। ऐसे में एक सवाल यह पैदा हो रहा है कि अगर इस तनाव ने जंग का रूप अखितयार किया तो क्‍या पाकिस्‍तान अपनी तटस्‍थता की नीति का पालन कर पाएगा। इस पूरे मामले में अब तक पाक ने दोनों देशों के बीच सुलह कराने में ही ज्‍यादा जोर दिया है। पाकिस्‍तान की विदेश नीति के इतिहास पर एक नजर डालें तो साफ हो जाएगा कि उसकी तटस्‍थता नीति बहुत कारगर हो नहीं सकी है। आइए जानते हैं उन वजहों को जिसके कारण पाकिस्‍तान का झुकाव अमेरिका की ओर होता है। इसके साथ उन कारणों को भी बताएंगे, जिसके कारण पाकिस्‍तान की विदेश नीति अमेरिका की ओर झुकी हुई है।

पहले तटस्‍थता फ‍िर अमेरिका की ओर झुकी विदेश नीति

अगर पाकस्तिान की विदेश नीति पर नजर दौड़ाए तो यह साफ हो जाएगा कि अमेरिकी विवादों में हर बार पाकिस्‍तान ने प्रारंभ में तो तटस्‍थता की नीति अपनाई है, लेकिन बाद में वह अमेरिका के आगे झुक गया है। इस बार यही हुआ अमेरिकी दबाव, पाकिस्‍तान की ताजा आर्थिक हालात और भारत के साथ पाकिस्‍तान के तल्‍ख होते रिश्‍तों के कारण इस्‍लामाबाद का वाशिंगटन का सहयोगी बनने में अपनी भलाई समझा। अमेरिका का लगातार भारत के प्रति झुकाव ने पाकिस्‍तान की चिंताएं बढ़ाई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button