latest

अमरीका को ईरानी मिसाइल अटैक की कैसे लगी भनक

मंगलवार को ईरान ने इराक में अमरीकी सैन्य ठिकाने पर कई मिसाइलें दागी. ईरान की ये कार्रवाई उसके टॉप लीडर जनरल सोलेमानी की मौत के ‘बदले’ के लिए की गई थी.
अमरीका के राष्ट्रपति ट्रंप ने दावा किया कि इस हमले में कोई अमरीकी या इराक़ी जान नहीं गई और बहुत ही कम नुक़सान हुआ.
ईरान की मिसाइलों ने टारगेट को हिट किया लेकिन अमरीका ने मिसाइलों का ख़तरा कैसे भांप लिया था?
इसका जवाब खुद डोनल्ड ट्रंप ने दिया कि उनके ‘वार्निंग सिस्टम’ ने सही काम किया. अमरीका के पास बहुत बड़ा रडार नेटवर्क और कई सेटेलाइट हैं जो पूरी दुनिया में मिसाइल लांच ट्रैक करते हैं.
इसी वजह से अमरीकी सैनिक मिसाइलों से बच पाए. इस बार तो सिस्टम ने सही काम किया लेकिन कुछ देशों की मिसाइल तकनीक बेहतर भी हो रही है तो ऐसे में अमरीका का सिस्टम कितना कारगर है?
वायर्ड वेबसाइट के मुताबिक़ इस वक्त अमरीका के पास 4 मिसाइल ट्रैकिंग इंफ्रारेड सैटेलाइट हैं और इसके अलावा 2 इंफ्रारेड मिसाइल डिटेक्शन सिस्टम भी है.
ईरान के केस में भी शायद इन्हीं सैटेलाइट में से किसी ने मिसाइलों की जानकारी दी होगी.
ऐसा दावा अमरीका ने तो नहीं किया है लेकिन ये सैटेलाइट कोई राज़ नहीं. रडार सिस्टम पहाड़ों की वजह से तब तक किसी मिसाइल को डिटेक्ट नहीं कर सकता जब तक वो एक सीमित ऊँचाई पर ना हो.
[10/01, 10:35 PM] Dipankita: [10/01, 10:24 PM] Tannu Cp:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button