latest

अगर आपके पास भी है सोना तो करवा लें हॉलमार्क, नहीं तो बेचने में आएगी समस्या

: आगामी वर्ष यानी 2021 से पूरे देश में सोने के सिर्फ हॉलमार्क आभूषण ही बिकेंगे। सवाल है कि ज्वेलर्स और खरीदार इसके लिए तैयार हैं? देश में लगभग तीन लाख ज्वेलर्स हैं। सभी दावा करते हैं कि सोने से बने उनके सभी आभूषण 22 कैरेट के होते हैं। वैसे सौ फीसद शुद्ध सोना 24 कैरेट का होता है, लेकिन यह काफी नरम होता है। लिहाजा इससे आभूषण बनाने के लिए इसमें चांदी, तांबा या फिर कांसा मिलाया जाता है जिससे यह मजबूत हो जाता है। यहीं से सोने में मिलावट कर आभूषण बनाने का एक बड़ा रास्ता भी खुल जाता है।

प्रमाणित सोने की बिक्री को बढ़ावा

मिलावटखोरी की आशंका को देखते हुए ज्वेलर्स से उम्मीद की जाती है कि वे ग्राहकों को बेचे जा रहे आभूषण की शुद्धता की गारंटी देंगे, लेकिन अधिकांश मामलों में ऐसा होता नहीं है। खासकर छोटे शहरों और ग्रामीण इलाकों में ज्वेलर्स के मौखिक गारंटी देने भर से ग्राहक संतुष्ट हो जाते हैं, परंतु उन्हें खरीदे गए आभूषण की शुद्धता की सच्चाई का पता तब चलता है जब वे बाद में अपने गहने को बेचने या बदलने के लिए किसी दूसरे ज्वेलर्स के पास जाते हैं। लोगों को इससे बचाने के लिए केंद्र सरकार ने वर्ष 2000 में हॉलमार्क या प्रमाणित सोने की बिक्री को बढ़ावा देने के लिए स्वैच्छिक हॉलमार्किंग स्कीम शुरू की थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button